संतो की बानी का पाठ करने से और याद करने से कुछ नहीं होगा, जब तक कमाई न होगी. इस वास्ते जो वचन सुनो उसकी कमाई करो. नहीं तो सुनना और समझना बे-फायदा है.